UA-149348414-1 Kyunki Mai Writer hoo

Kyunki Mai Writer hoo

Kyuki-Mai-Writer-Hoo


                         मैं सूरज की गर्मी  हूँ,
                        तो चाँद की ठंडक भी हूँ,।


 Mai Suraj ki garmi hoo, To Chand ki thandak bhi hoo....

                         मैं सागर की गहराई  हूँ
                         तो पर्वत की ऊंचाई भी हूँ।।


Mai Sagar ki gahrayi hoo,To Parvat ki unchayi bhi hoo....

                         मैं प्रतिशोध की ज्वाला हूँ,
                       तो दया का सहज भाव भी हूँ।।


Mai pratishodh ki Jwala hoo,To Daya ka sahaz bhaav bhi hoo....

                           मैं राजा का सिंहासन हूँ,
                        तो प्रजा का कृतज्ञ भय भी हूँ।।


Mai Raja ka sinhasan hoo,To Praja ka kritagya bhay bhi hoo....

                           मैं अमीरी की ठाठ हूँ,
                    तो गरीबी की भूख की आग भी हूँ।।


Mai Amiri ki thaath hoo,To Garibi ki bhookh ki aag bhi hoo....

                        मैं मिलन की मोहक घड़ी हूँ,
                        तो जुदाई की वेदना भी हूँ।।


Mai Milan ki mohak ghari hoo,To Judayi ki vedana bhi hoo....

                         मैं बहादुर की वीरता हूँ,
                     तो बुज़दिल की कायरता भी हूँ।।


Mai Bahadur ki veerta hoo,To Bujdil ki kayarta bhi hoo....

                          मैं युद्ध का विनाश हूँ,
                      तो मैं शान्ति की राहत भी हूँ।।


Mai Yuddh ka vinash hoo,To mai Shanti ki rahat bhi hoo....

                        मैं सज्जन का सुकर्म हूँ,
                       तो दुर्जन का दुष्कर्म भी हूँ।।


Mai Sajjan ka sukarm hoo,To Durjan ka dushkarm bhi hoo....

                          मैं लगन की जीत हूँ,
                       तो आलस की हार भी हूँ।।


Mai Lagan ki jeet hoo,To Aalas ki haar bhi hoo....

                        मैं आस्तिक की आस्था हूँ,
                       तो नास्तिक का तर्क भी हूँ।।


Mai Aastik ki aastha hoo,To Nastik ka tark bhi hoo....

                         मैं बलवान का बल हूँ,
                      तो कमजोर का भय भी हूँ।।


Mai Balvan ka bal hoo,To Kamzor ka bhay bhi hoo....

                         मैं ख़ुशी की मुस्कान हूँ,
                        तो गम का रुदन भी हूँ।।


Mai Khushi ki muskan hoo,To Gam ka rudan bhi hoo....

                           मैं सत्य की जीत हूँ,
                        तो असत्य की हार भी हूँ।।


Mai Satya ki jeet hoo,To Asatya ki haar bhi hoo....
                       
                           क्योंकि मैं  लेखक हूँ
                        तो जीवन का सार भी हूँ।।


Kyunki mai Lekhak hoo,To Jeevan ka saar bhi hoo....

      By - Kashish "Bagi" 


Support us through Paytm/Google Pay/Phone Pay/Paypal @ 8542975882

0 Comments