UA-149348414-1 Your voice - तुम्हारी आवाज

Your voice - तुम्हारी आवज

Your-voice-tumhari-aavaj
Follow my thoughts on the YourQuote app at https://www.yourquote.in/bagi35007

English Version

Your-voice-tumhari-aavaj
Follow my thoughts on the YourQuote app at https://www.yourquote.in/bagi35007

Your voice ,


First time when I heard,


It was like an invention of a new tune,


More melodious than a cuckoo's voice,


There is nothing melodious like your voice in this universe,


Sweeter than GulabJamun,


Softer than muslin/velvet,


Like a tweet of chirping birds,


Whenever I listen to your voice,


My heart starts dancing on your tune,


Just like my legs dance on MJ's Dangerous song,


Your voice brings new thing in to me like Spring brings new things in the nature,


Your voice makes my heart greeny like rain makes ground more greeny in green,


Your voice makes me happy,


Your voice makes me feel of a new world after a huge mountain of uncertainty, pain and struggles,


Where exist all things related to me,


Where exists equality and there is no place for a battle for revolution,


Where exists life in a true way,


I wanna cross that huge mountain of grief with the help of your voice,


So please.....O my Dear,


 Let me listen to your beautiful, sweet and melodious voice until I cross that mountain with you,



Where exists our new world and our new life.





Hindi version

Your-voice-tumhari-aavaj
Follow my thoughts on the YourQuote app at https://www.yourquote.in/bagi35007


तुम्हारी आवाज,

जब पहली बार मैंने सुनी,

एक नए धुन की खोज जैसी थी,

कोयल की आवाज से भी सुरीली,

उसके सुरीलेपन का कायनात में दूसरा कोई मेल नहीं,

गुलाबजामुन से भी मीठी,

मलमल से भी ज्यादा मखमली,

सुबह चहचहाते चिड़ियों सी चंचलता,

जब भी मैं तेरी आवाज को ध्यान से सुनता हूँ,

मेरा मन उसकी धुन पर थिरकने लगता है,

ठीक वैसे ही जैसे मेरे पैर माइकल जैक्सन के
Dangerous गाने पर थिरकते हैं,

तुम्हारी आवाज मुझमे पतझड़ के बाद का नयापन लाती है,

तुम्हारी आवाज मेरे मन को बरसात सा हरा और खुशहाल बनाती,

तुम्हारी आवाज मुझे पहाड़ के उसपार की नई दुनिया का एहसास कराती है,

जिसमे मेरे मतलब की सारी चीज़े है,

जिसमे एक साम्य है जहां क्रांति की कोई वजह ही नही है,

जिसमे सब कुछ जीवन जीने और जीवन बसा लेने के अनुकुल है,

मुझे उस पहाड़ को पार कर उस दुनिया में तेरी आवाज के सहारे जाना है,

इसलिए तुम तब तक युही बोलते रहना जब तक मैं उस पहाड़ को पार कर हमारी नई दुनिया मे न चला जाऊं....¡! 


By -Kashish "Bagi"



Support us through paytm/googlepay/phone pe/Paypal @8542975882


0 Comments