UA-149348414-1 क्या पुनर्जन्म होता है?

क्या पुनर्जन्म होता है?

kyaa-punarjanm-hota-hai


मैं एक नास्तिक हूं ,इसलिए मै इसका जवाब धार्मिक व्याख्यानों से नहीं दूंगा ,बस एक छोटा सा तर्क देना चाहता हूं।
पुनर्जन्म होता ही नहीं, बिल्कुल बे सिर पैर की बात है ये। हा सही सुना आपने पुनर्जन्म नहीं होता है।
क्या सोच रहे हैं लग रहा होगा कि क्या अधार्मिक सा बात कर दिया । तो तर्क यह है कि अगर हर आत्मा का पुनर्जन्म ही होता है तो फिर जनसंख्या दुनिया में क्यों बढ़ती जा रही है? जितनी आत्माएं बनी हैं उतनी ही जनसख्या नियत रह जानी चाहिए।
अब आप शायद अचानक इसके जवाब में वहां तक न सोच पाएं , जहा तक मै सोच लिया हूं। आप बैठ कर यदि सोचें तो आप मेरी कहीं हुई बात को 3 तरीके से खंडन कर पाएंगे।
  1. यह तर्क दे सकते हैं कि ईश्वर नए आत्माओं का सृजन कर रहा होगा। तब मै पूछूंगा क्यों? क्या वह इतना निर्दई है ? उसे नहीं पता इस बढ़ती जनसंख्या के कारण उसके भक्तों पर कितनी समस्याओं का बोझ आ पड़ा है?
  2. दूसरा तर्क यह दे सकते हैं , अगर विज्ञान और धर्म को मिलाकर शर्बत तैयार कर ले और उसको गटक जाएं और बोलें की आत्मा का द्वी गुड़न हो जाता होगा। लेकिन ये बात बस "होगा" तक ही सीमित है। कोई धार्मिक किताब भी इस होगा को लिखित रूप से प्रमाणित नहीं करता। वैसे व्यवहार में तो कुछ भी प्रमाणित नहीं करता और न किया जा सकता है।
  3. तीसरा थोड़ा मजबूत तर्क है कि कर्म के अनुसार जानवर जो हैं मनुष्य योनि में जन्म लेते जाते ,लेते जाते हैं। जिससे मनुष्य की जनसख बढ़ती जाती है। मेरा तर्क मान लेता हूं कि जानवर बेचारे इतने अच्छे कर्म करते रहते हैं कि उनका जन्म मनुष्य योनि में होता जा रहा है । कटू सत्य निकला ये तो बाप रे मनुष्य करते ही हैं इतने पाप। लेकिन आप एक और प्रमाणिक तर्क पर विचार कीजिए। वे सभी जानवर जो विलुप्त होने के कगार पर हैं, उनको छोड़कर बाकी सभी जानवरों की भी जनसख बढ़ती ही जा रहीं है। खास कर उपयोगी जानवरों की जनसंख्या। जिनका उपयोग मांस , ऊन और दूग्ध उत्पादन के लिए किया जाता है। जितनी डिमांड बढ़ती जाती है उनकी पैदावार उतनी ही बढ़ती ही जाती है। जैसे - मुर्गा ,मुर्गी , भेड़ ,बकरी , गाय ,भैंस आदि। और जो जानवर विलुप्त होने की कगार पर हैं या जो विलुप्त हो गए उसका बस एक ही कारण है की उनका शिकार मनुष्य ने तेज़ी से किया या उनके प्रजनन के अनुकूल वातावरण वाले जगहों पर कब्ज़ा कर लिया गया या फिर उनको पर्याप्त भोजन नहीं मिल पाया। न कि वो अच्छे कर्म करके सारी जाति सहित मनुष्य बन गए।
तो पुनर्जन्म की प्रमाणिकता का कोई आधार नहीं है ।

1 Comments

  1. सब की गिद्धवा आदमी बन गए ��

    ReplyDelete

Please do not enter any spam link in the comment box.