UA-149348414-1 Rebel Thoughts(बागी विचार)
Showing posts from 2020Show All
एक भाषा में अ लिखना चाहता हूँ

एक भाषा में अ लिखना चाहता हूँ एक भाषा में अ लिखना चाहता हूँ अ से अनार अ से अमरूद लेकिन लिखने लगता हूँ अ से अनर्थ अ से अत्याचार कोशिश करता हूँ कि क से क़लम या करुणा लिखूँ लेकिन मैं लिखने लगता हूँ क से क्रूरता क से कुटिलता अभी तक ख से खरगोश लिखता आया हूँ लेकिन ख से अब क…

जिद-राजेश जोशी

जिद-राजेश जोशी ख़ुद की ही जेबों को निचोड़ कर ख़ुद ही रात-रात जाग कर तैयार करते हैं मशालें, पोस्टर और प्ले-कार्ड अगर रैली में जुट जाते हैं सौ-सवा सौ लोग भी तो दुगने उत्साह से भर जाते हैं वे दुनियादार लोग अक्सर उनका मज़ाक उड़ाते हैं असफलताओं का मखौल बनाना ही व्यवहारिकत…

इक बार कहो तुम मेरी हो

इक बार कहो तुम मेरी हो  हम घूम चुके बस्ती बन में   इक आस की फाँस लिए मन में   कोई साजन हो ,कोई प्यारा हो   कोई दीपक हो, कोई तारा हो   जब जीवन रात अँधेरी हो   इक बार कहो तुम मेरी हो   जब सावन बादल छाए हों   जब फागुन फूल खिलाए हों   जब चंदा रूप लुटाता हो   जब सूरज धूप…

What is Schrodinger's smiley ?

What is Schrodinger's smiley ? It is a meme which is based on an interesting thought experiment. Thought experiment is something which the scientist imagined and discussed but never actually executed i.e. experiment is imaginary. Schrodinger's smiley has a do…

तुम्हें उदास देखकर

तुम्हें उदास देखकर तुम्हें उदास सा पाता हूँ मैं कई दिन से ना जाने कौन से सदमे उठा रही हो तुम वो शोख़ियाँ, वो तबस्सुम, वो कहकहे न रहे हर एक चीज़ को हसरत से देखती हो तुम छुपा छुपा के ख़मोशी में अपनी बेचैनी ख़ुद अपने राज़ की ताशीर बन गई हो तुम मेरी उम्मीद अगर मिट गई तो …

गांधी और अहिंसा

गांधी और अहिंसा आज गांधी जयंती है। पूरा सोशल मीडिया गांधी जयंती की शुभकामनाओं और गालियों दोनों से भरा होगा। गांधी को गालियां देने वालों के लिए मेरा दावा है की वो गांधी को जानते ही नहीं है और गांधी जयंती की शुभकामना देने वालों में से भी अधिकांश का हाल यही है।        …

किसान - कृषि अध्यादेश और मोदी सरकार की हकीकत

किसान - कृषि अध्यादेश और मोदी सरकार की हकीकत भारत अंग्रेज़ो की गुलामी से लम्बे संघर्षों और अनगिनत बलिदानों के बाद 15 अगस्त, 1947 को आजाद हुआ। अगर तकनीकी रूप से कहा जाए तो यह पूर्ण रूप से आजादी नहीं बल्कि मात्र एक सत्ता हस्तांतरण ही था। अभी भारत को जमीनी तौर पर आज़ा…

मोहनजोदड़ो की आखिरी सीढ़ी से

मोहनजोदड़ो की आखिरी सीढ़ी से   मैं साइमन न्याय के कटघरे में खड़ा हूं प्रकृति और मनुष्य मेरी गवाही दे! मैं वहां से बोल रहा हूं जहां मोहनजोदड़ो के तालाब के आखिरी सीढ़ी है जिस पर एक औरत की जली हुई लाश पड़ी है और तालाब में इंसानों की हड्डियां बिखरी पड़ी हैं इसी तरह एक औरत …

औरतें

औरतें कवि - विद्रोही कुछ औरतों ने अपनी इच्छा से कूदकर जान दी थी ऐसा पुलिस के रिकॉर्ड में दर्ज है और कुछ औरतें अपनी इच्छा से चिता में जलकर मरी थीं ऐसा धर्म की किताबों में लिखा हुआ है मैं कवि हूँ, कर्त्ता हूँ क्या जल्दी है मैं एक दिन पुलिस और पुरोहित दोनों को एक साथ और…