UA-149348414-1 Motivational quotes in Hindi

Motivational quotes in Hindi

Motivational quotes in Hindi
Motivational quotes in Hindi
                                        
@सन्देह सच्ची दोस्ती का जहर है।

@संसार एक विशाल ग्रन्थ के समान है,जो केवल अपने स्थान से ही चिपके रहते हैं वो केवल उसका एक पृष्ठ ही पढ़ पाते हैं।

@मनुष्य मुसीबतों को सह सकता है क्योंकि वो बाहर से आती हैं, लेकिन अपने दोषों को सहना - आह!वही तो जीवन दंश है।

@हर सन्त का भूत काल है और हर पापी का भविष्य।

@प्रजा तंत्र का सीधा सादा अर्थ है ,प्रजा के डंडे को,प्रजा के लिए, प्रजा के पीठ पर तोड़ना।

@गरीबों को किफ़ायतशारी का उपदेश देना भौंडा और अपमानजनक कार्य है।

@अपने ऊपर असीम विश्वास स्थापित करना और अकेले बैठकर अंतरात्मा की ध्वनि सुनना वीर पुरषों का ही काम है।
Motivational quotes in Hindi
Motivational quotes in Hindi
                                      
@अच्छे विचारों पर यदि अमल न किया जाए तो वे अच्छे स्वप्नों से बढ़कर नहीं हैं।

@मानव जाति का अंत इस प्रकार होगा कि सभ्यता आखिरकार उसका दम घोट देगी।

@पूर्ण शांति का मुझे कोई मार्ग दिखाई नहीं देता, सिवाय इसके कि व्यक्ति अपने अंदर की आवाज पर चले।

@अविश्वास धीमी आत्महत्या है।

@प्रत्येक असत्य आचरण समाज के स्वास्थ्य पर आघात है।

@रोगियों की अधिकता के कारण स्वास्थ्य के अस्तित्व से इनकार नहीं किया जा सकता।

@आत्मा व्यक्तियों का लिहाज नहीं रखती।
Motivational quotes in Hindi
Motivational quotes in Hindi
                                         
@शांत रहो, सौ बरस बाद यह सब एक हो जाएगा।

@जीवन में मेरी प्रधान आवश्यकता यह है कि कोई मुझे ऐसा मिले जो मुझसे वह कराए जो मैं कर सकता हूं।

@संस्कृति और महत्ता के समस्त रास्ते एकांत कारावास की ओर जाते हैं

@वीरता खुद को फिर से सम्भाल लेने में है।

@समालोचक, दार्शनिक ,असफल कवि हैं।

@करने का कौशल करने से आता है।

@सोसायटी, हर जगह, अपने प्रत्येक सदस्य की मनुष्यता के खिलाफ षड्यंत्र है।

@विचार करते करते अपने को दीवाना न बना लो, बल्कि जहां हो अपने काम मे लगे रहो।
Motivational quotes in Hindi
Motivational quotes in Hindi
                                          
@प्रेम के स्पर्श से हर कोई कवि बन जाता है। 

@जब तक दार्शनिक लोग शासक नहीं बन जाते, या जब तक शासक लोग दर्शन शास्त्र नहीं पढ़ लेते, तब तक आदमी की मुसीबतों का अंत नहीं हो सकता। 

@मैं यह ज्यादा पसंद करूंगा की सारी दुनिया से मेरी अनबन हो आये और वह मेरा विरोध करने लगे; बनिस्बत इसके की खुद मुझि से मेरी अनबन हो जाए और मैं खुद अपना ही विरोध करने लगूँ। 

@सुंदरता समय की रियायत है। 


DISCLAIMER-यह आर्टिकल वेबसाइट REBEL THOUGHTS (बागी विचार)  के कॉपीराइट के अधिकार क्षेत्र में नहीं है और न ही हम इसे अपना UNIQUE आर्टिकल होने का दावा करते हैं।   यह आर्टिकल  कालिदास से लेकर लेनिन तक सभी दार्शनिकों,वैज्ञानिकों , शिक्षाविदों , कलाकारों आदि  की लिखी पुस्तकों, विचारों,साक्षात्कारों एवं व्याख्यानों से प्रेरित है।  

0 Comments