UA-149348414-1 गुजर जाने के बाद

गुजर जाने के बाद 

loneliness-hindi-poem-on-love
Photo by Larisa Birta on Unsplash


                                                            अब बहारें लौटेंगी तो क्या,
                                                             कोई गुल खिलेगा तो क्या,
                                                     वो इक मासूम सी कली फना हो गई,
                                                    सीखा था जिससे दस्तूर-ए-मोहब्बत,
                                                     वो मुहब्बत की तालीम खता हो गई,
                                                       खता बख्शने की इजाजत हो अगर,
                                                         तन्हा सुनाउँ तुम्हें हाल-ए-जिगर,
                                                    जो रूठ कर उसने जहाँ से मुँह फेरा,
                                                    लगा मेरे जिस्म से रूह जुदा हो गई,
                                                      अब नहीं कोई शिकवा किसी से,
                                                   की कयामत में मिलना सज़ा हो गई।

                                                                    BY-KASHISH

0 Comments