UA-149348414-1 ख्वाहिश


            आओ  आज  दो  पल  कुछ  बातें  कर  लें,

         कुछ तुम अपनी कह दो कुछ हम अपनी कह लें।

         जो ये नशा सा छाया हुआ है तेरे और मेरे मन पे,

           आज और अभी उसका कुछ इलाज कर लें।

                    तुम्हें भी चलना है अभी मिलों

               मेरे रास्ते में भी ठोकरें अभी बाकी हैं

                       तुम भी कुछ नशे में हो

                  मैं भी कब से लड़खड़ा रहा हूँ

             तुम्हें भी फ़िक्र है साहिल तक पहुँचने की

               मैं भी साहिल से अभी मीलों दूर हूँ

            कुछ कर दो ऐसा आज की हम एक हों जाए

           सिर्फ तुम्ही बोलो तुम्हीं सुनो तुम्ही संघर्ष करो

             थक सा गया हूँ अब अकेला चलते चलते

           कब से छुपे हुए हो अब तो हमराही हो जाओ

        मेरे इस अकेले की जीत हार का भागीदार बन जाओ

              मेरे संघर्ष की तलवारों की धार बन जाओ

     अब जग जाओ तुम मेरी सल्तनत के पहरेदार बन जाओ।।

                          BY- KASHISH




0 Comments