UA-149348414-1 Loneliness
                                                                 Loneliness

                                

                                                  थोड़ी सी सूरज की किरणें चुरा कर
                                                 रख लिया है ओट में मैंने।
                                        रात के अंधेरों के लिए जाने कब
                                                       तूफाँ आ जाए।।
                                  और उड़ा ले जाए सब कुछ इसी सोच
                                                  में डूबा रहता है मन।।।
                                  कैसी हवा है ये जो जीवन दे जाती है
                                                        साँसों को।।।।
                                 और कभी उग्र होकर छीन लेती है
                                            कितनी ही साँसों को।।।।

                                                     By- Kashish

1 Comments

Please do not enter any spam link in the comment box.